| |

Bihar Agriculture : बिहार के इन जिलों में शुरू होगी चाय पत्ती की खेती सरकार देगी अनुदान जानिए

बिहार में परंपरागत खेती किए जाते हैं जिसमें दलहन, तिलहन के अलावा कई अन्य प्रकार की खेती किए जाते हैं। जैसा कि आप जानते होंगे कि परंपरागत तरीकों से खेती करके गेहूं, चावल, दाल के अलावा कई अलग-अलग फसल उगाई जाते हैं।

उधर बिहार में किसानों की आय में बढ़ोतरी हो इसको लेकर सरकार लगातार यह प्रयास कर रही है, कि किसान परंपरागत खेती से हटकर मॉडर्न तकनीक से खेती करें।

जहां एक तरफ बिहार में लोग सेब, स्ट्रॉबेरी आदि की खेती कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ अब बिहार के कई जिलों में चाय पत्ती की खेती को लेकर सरकार अनुदान देगी तो चलिए खबर में जानते हैं कि कौन-कौन जिला शामिल है।

इस जिला में सफल हुआ चाय पत्ती की खेती

हालांकि अभी बिहार के कई ऐसे जिले हैं जहां पर चाय पत्ती की खेती होती है, जिसमें किशनगंज प्रमुख है। वहीं बिहार के पूर्णिया प्रमंडल में चाय की खेती का प्रयोग अब सफल हो गया है।

इन जिलों में होगी चाय पत्ती की खेती

आपको बता दें कि पूर्णिया प्रमंडल में चाय पत्ती की खेती सफल होने के बाद बिहार के किशनगंज के बाद अब सुपौल जिला के सीमावर्ती इलाके सहित अन्य जगहों पर भी चाय की खेती शुरू की जाएगी।

सरकार देगी विशेष अनुदान

चाय की खेती को शुरू करने के लिए बिहार सरकार बिहार के सीमांचल एरिया के किसानों को अनुदान भी देगी। सरकार इसकी जानकारी खुद बैठक के दौरान कृषि पदाधिकारी ने दी है।

उन्होंने बैठक के दौरान कहा कि चाय की खेती को लेकर उपयुक्त जमीन की तलाश की जाएगी और इन जमीन पर चाय की खेती की जाएगी इसमें किसानों की मदद सरकार भी करेगी।

जहां एक तरफ से स्ट्रॉबेरी आदि की खेती के बाद अब बिहार में चाय की खेती शुरू होने से बिहार में किसानों की आमदनी बढ़ेगी इसे किसने की हालत और भी बेहतर होगी।

Also Read : फरवरी में शुरू होगा बिहार का मेगा ब्रिज का फिर से निर्माण, जानिए कहां होना है निर्माण