Bihar Teacher News: बिहार में बिना परीक्षा दिए बन गया बीपीएससी शिक्षक, मुंबई में करता है काम

Vikas Kumar
Became BPSC teacher in Bihar without giving exam
Bihar Teacher News: बिहार में बिना परीक्षा दिए बन गया बीपीएससी शिक्षक, मुंबई में करता है काम

बिहार शिक्षक बहाली एक बार फिर से गलत कारणों से चर्चा का विषय बना हुआ है। फिलहाल दूसरे चरण की शिक्षक भर्ती में सफल हुए अभ्यर्थियों की जॉइनिंग प्रक्रिया चल रही है।

इसी दौरान 08 फ़रवरी 2024 को एक फर्जी बीपीएससी शिक्षक को गिरफ्तार किया गया है। जो बिना परीक्षा दिए ही बिहार में टीचर की नौकरी पा चूका था। बड़ी बात यह है कि उसने ट्रेनिंग भी ले ली और किसी को पता भी नहीं चला।

बिहार में बिना परीक्षा दिए बन गया बीपीएससी शिक्षक

मामला बिहार के कटिहार जिले का है, जहाँ शिक्षा विभाग के कार्यालय में सभी सफल अभ्यर्थियों के चेहरों और अंगूठे का मिलान किया जा रहा था। इस दौरान एक शिक्षक के अंगूठे का मिलान नहीं हो सका तो उस पर शक की सुई घूम गई।

जिसके बाद उस उम्मीदवार से पूछताछ की गई। इस दौरान उसने खुद ही सब राज उगल दिए। फिलहाल यह मामला सोशल मीडिया (Social Media) पर चर्चा का विषय बना हुआ है।

Fake BPSC teacher caught in Bihar
बिहार में पकड़ा गया फर्जी बीपीएससी शिक्षक

इस फर्जी शिक्षक की पहचान मधुबनी जिले के फुलपरास थाना क्षेत्र में सुग्गापट्टी गांव के रहने वाले ओंकार नाथ भिंडवार के रूप में हुई है। ओंकार नाथ ने कहा कि – “मैनें परीक्षा नहीं दी थी। मैं मुंबई में काम करता हूँ।”

नए शिक्षक की ट्रेनिंग ली लेकिन नहीं चला पता

उसने आगे बताया की यहां किसी और ने उसके बदले बीपीएससी शिक्षक भर्ती परीक्षा दी थी। उसने खुद यह बात स्वीकार किया कि फॉर्म भरने के बाद वह मुंबई चला गया था।

बीपीएससी द्वारा उसका एग्जाम दरभंगा के परीक्षा केंद्र में दिया था। रिजल्ट आने के बाद इस फर्जी शिक्षक अभ्यर्थी ने नए शिक्षक की ट्रेनिंग अररिया जिले में ले ली और किसी को पता तक नहीं चला।

भागने पर कर्मचारियों ने दौड़कर पकड़ा

भांडा फुट जाने के बाद फर्जी शिक्षक ओंकार नाथ भिंडवार भाग खड़ा हुआ। लेकिन वहाँ पर मौजूद कर्मचारियों ने उसे दौड़कर पकड़ लिया।

वहीं इस मामले में मजिस्ट्रेट सुभाष कुमार सिंह ने कहा कि – “जांच के दौरान इस व्यक्ति का जब थंब इंप्रेशन और चेहरे का मिलान नहीं हुआ तो हमने उसे रोक दिया। इसके बाद पदाधिकारी को खबर की गई। जांच और पूछताछ के बाद उसे पकड़ लिया गया।”

कई जिलों से पकड़े गए फर्जी शिक्षक अभ्यर्थी

वहीं शिक्षक भर्ती में इस धोखाधड़ी के मामले के उजागर होने के बाद कटिहार डीपीएम रूबी कुमारी ने कहा कि – “एक मामला आया है जिसमें थंब इंप्रेशन का मिलान नहीं हो पाया है।

फर्जी शिक्षक ने खुद इस बात को मान भी लिया है। अब ऐसे में आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

आपको बता दें कि राज्य के कई जिलों से इस तरह के मामले सामने आ चुके हैं। जबकि कई जिलों से फर्जी शिक्षक अभ्यर्थी पकड़े जा चुके हैं।

और पढ़ें: बिहार का सोनू मैट्रिक में हुआ फैल, जूता फैक्ट्री में किया काम, बना डाला लाखों का बिजनेस

और पढ़ें: BPSC TRE 3: बिहार थर्ड फेज की शिक्षक भर्ती का नोटिफिकेशन जारी, इस बार किए गए ये बदलाव


WhatsApp Group 👉
Join Now
Telegram Group 👉 Join Now
Share This Article
Follow:
I am Vikash Sah, seasoned blogger, SEO expert, and content writer with 5+ years of experience. Specializes in writing on various topics like Education, Jobs, Government Schemes, Travel, and Blogging. Join me on an informative journey.